साई बाबा की दुर्लभ एवं सच्ची तस्वीरे देखे और शेयर करे ! कॉमेंट मे ओम साई राम लिखे !


20ud1zp Image13web original-picture-of-sai-baba-shirdi original-saibaba-pic

original-shirdi-pic

original-shirdi-sai-nathaji

sai-baba-questionable

samadhi

Shirdi_Sai_Baba_and_devotees2

Shirdi_sai2

Shri Sai Baba18

 

IMG-20151025-WA0017

IMG-20151025-WA0020 IMG-20151025-WA0021 IMG-20151025-WA0022

IMG-20151025-WA0023

साईं बाबा के अनमोल वचन

Quote 1: Why fear when I am here?

In Hindi :मेरे रहते डर कैसा?

Sai Baba साईं बाबा

Quote 2: I am formless and everywhere.

In Hindi :मैं निराकार हूँ और सर्वत्र हूँ.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 3: I am in everything and beyond. I fill all space.

In Hindi :मैं हर एक वस्तु में हूँ और उससे परे भी. मैं सभी रिक्त स्थान को भरता हूँ.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 4: All that you see taken together is Myself.

In Hindi :आप जो कुछ भी देखते हैं उसका संग्रह हूँ मैं.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 5: I do not shake or move.

In Hindi :मैं डगमगाता या हिलता नहीं हूँ.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 6: If one devotes their entire time to me and rests in me, need fear nothing for body and soul.

In Hindi :यदि कोई अपना पूरा समय मुझमें लगाता है और मेरी शरण में आता है तो उसे अपने शरीर या आत्मा के लिए कोई भय नहीं होना चाहिए.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 7: If one sees me and me alone and listens to my Leelas and is devoted to me alone, they will reach God.

In Hindi :यदि कोई सिर्फ और सिर्फ मुझको देखता है और मेरी लीलाओं को सुनता है और खुद को सिर्फ मुझमें समर्पित करता है तो वह भगवान तक पंहुच जायेगा.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 8: My business is to give blessings.

In Hindi :मेरा काम आशीर्वाद देना है.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 9: I get angry with none. Will a mother get angry with her children? Will the ocean send back the waters to the several rivers?

In Hindi :मैं किसी पर क्रोधित नहीं होता. क्या माँ अपने बच्चों से नाराज हो सकती है ? क्या समुद्र अपना जल वापस नदियों में भेज सकता है ?

Sai Baba साईं बाबा

Quote 10: I will take you to the end.

In Hindi :मैं तुम्हे अंत तक ले जाऊंगा.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 11: Surrender completely to God.

In Hindi :पूर्ण रूप से ईश्वर में समर्पित हो जाइये.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 12: If you make me the sole object of your thoughts and aims, you will gain the supreme goal.

In Hindi :यदि तुम मुझे अपने विचारों और उद्देश्य की एकमात्र वस्तु रक्खोगे , तो तुम सर्वोच्च लक्ष्य प्राप्त करोगे.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 13: Trust in the Guru fully. That is the only sadhana.

In Hindi: अपने गुरु में पूर्ण रूप से विश्वास करें. यही साधना है.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 14: I am the slave of my devotee.

In Hindi :मैं अपने भक्त का दास हूँ.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 15: Stay by me and keep quiet. I will do the rest.

In Hindi :मेरी शरण में रहिये और शांत रहिये. मैं बाकी सब कर दूंगा.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 16: What is our duty? To behave properly. That is enough.

In Hindi :हमारा कर्तव्य क्या है? ठीक से व्यवहार करना. ये काफी है.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 17: My eye is ever on those who love me.

In Hindi :मेरी दृष्टि हमेशा उनपर रहती है जो मुझे प्रेम करते हैं.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 18: Whatever you do, wherever you may be, always bear this in mind: I am always aware of everything you do.

In Hindi :तुम जो भी करते हो, तुम चाहे जहाँ भी हो, हमेशा इस बात को याद रखो: मुझे हमेशा इस बात का ज्ञान रहता है कि तुम क्या कर रहे हो.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 19: I will not allow my devotees to come to harm.

In Hindi :मैं अपने भक्तों का अनिष्ट नहीं होने दूंगा.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 20: If a devotee is about to fall, I stretch out my hands to support him or her.

In Hindi :अगर मेरा भक्त गिरने वाला होता है तो मैं अपने हाथ बढ़ा कर उसे सहारा देता हूँ.

Sai Baba साईं बाबा

Quote 21: I think of my people day and night. I say their names over and over.

In Hindi : मैं अपने लोगों के बारे में दिन रात सोचता हूँ. मैं बार-बार उनके नाम लेता हूँ.

Sai Baba साईं बाबा

************************ॐ श्री साईं नाथाय नमः************************

स्वाइन फ्लू: बचाव और इलाज


Swine-flu-H1N1-virus-181214

स्वाइन फ्लू एक बार फिर देश में पांव पसार रहा है। फ्लू से डरने के बजाय जरूरत इसके लक्षणों के बारे में जानने और सावधानी बरतने की है। आइए जानें स्वाइन फ्लू से सेफ्टी के तमाम पहलुओं के बारे में :

क्या है स्वाइन फ्लू

स्वाइन फ्लू श्वसन तंत्र से जुड़ी बीमारी है, जो ए टाइप के इनफ्लुएंजा वायरस से होती है। यह वायरस एच1 एन1 के नाम से जाना जाता है और मौसमी फ्लू में भी यह वायरस सक्रिय होता है। 2009 में जो स्वाइन फ्लू हुआ था, उसके मुकाबले इस बार का स्वाइन फ्लू कम पावरफुल है, हालांकि उसके वायरस ने इस बार स्ट्रेन बदल लिया है यानी पिछली बार के वायरस से इस बार का वायरस अलग है।

कैसे फैलता है

जब आप खांसते या छींकते हैं तो हवा में या जमीन पर या जिस भी सतह पर थूक या मुंह और नाक से निकले द्रव कण गिरते हैं, वह वायरस की चपेट में आ जाता है। यह कण हवा के द्वारा या किसी के छूने से दूसरे व्यक्ति के शरीर में मुंह या नाक के जरिए प्रवेश कर जाते हैं। मसलन, दरवाजे, फोन, कीबोर्ड या रिमोट कंट्रोल के जरिए भी यह वायरस फैल सकते हैं, अगर इन चीजों का इस्तेमाल किसी संक्रमित व्यक्ति ने किया हो।

शुरुआती लक्षण

– नाक का लगातार बहना, छींक आना, नाक जाम होना।

– मांसपेशियां में दर्द या अकड़न महसूस करना।

– सिर में भयानक दर्द।

– कफ और कोल्ड, लगातार खांसी आना।

– उनींदे रहना, बहुत ज्यादा थकान महसूस होना।

– बुखार होना, दवा खाने के बाद भी बुखार का लगातार बढ़ना।

– गले में खराश होना और इसका लगातार बढ़ते जाना।

Diagram_of_swine_flu_symptoms_HN

नॉर्मल फ्लू से कैसे अलग

सामान्य फ्लू और स्वाइन फ्लू के वायरस में एक फर्क होता है। स्वाइन फ्लू के वायरस में चिड़ियों, सूअरों और इंसानों में पाया जाने वाला जेनेटिक मटीरियल भी होता है। सामान्य फ्लू और स्वाइन फ्लू के लक्षण एक जैसे ही होते हैं, लेकिन स्वाइन फ्लू में यह देखा जाता है कि जुकाम बहुत तेज होता है। नाक ज्यादा बहती है। पीसीआर टेस्ट के माध्यम से ही यह पता चलता है कि किसी को स्वाइन फ्लू है। स्वाइन फ्लू होने के पहले 48 घंटों के भीतर इलाज शुरू हो जाना चाहिए। पांच दिन का इलाज होता है, जिसमें मरीज को टेमीफ्लू दी जाती है।

कब तक रहता है वायरस

एच1एन1 वायरस स्टील, प्लास्टिक में 24 से 48 घंटे, कपड़े और पेपर में 8 से 12 घंटे, टिश्यू पेपर में 15 मिनट और हाथों में 30 मिनट तक एक्टिव रहते हैं। इन्हें खत्म करने के लिए डिटर्जेंट, एल्कॉहॉल, ब्लीच या साबुन का इस्तेमाल कर सकते हैं। किसी भी मरीज में बीमारी के लक्षण इन्फेक्शन के बाद 1 से 7 दिन में डिवेलप हो सकते हैं। लक्षण दिखने के 24 घंटे पहले और 8 दिन बाद तक किसी और में वायरस के ट्रांसमिशन का खतरा रहता है।

चिंता की बात

इस बीमारी से लड़ने के लिए सबसे जरूरी है दिमाग से डर को निकालना। ज्यादातर मामलों में वायरस के लक्षण कमजोर ही दिखते हैं। जिन लोगों को स्वाइन फ्लू हो भी जाता है, वे इलाज के जरिए सात दिन में ठीक हो जाते हैं। कुछ लोगों को तो अस्पताल में एडमिट भी नहीं होना पड़ता और घर पर ही सामान्य बुखार की दवा और आराम से ठीक हो जाते हैं। कई बार तो यह ठीक भी हो जाता है और मरीज को पता भी नहीं चलता कि उसे स्वाइन फ्लू था। डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट बताती है कि जिन लोगों का स्वाइन फ्लू टेस्ट पॉजिटिव आता है, उनमें से इलाज के दौरान मरने वालों की संफ्या केवल 0.4 फीसदी ही है। यानी एक हजार लोगों में चार लोग। इनमें भी ज्यादातर केस ऐसे होते हैं, जिनमें पेशंट पहले से ही हार्ट या किसी दूसरी बीमारी की गिरफ्त में होते हैं या फिर उन्हें बहुत देर से इलाज के लिए लाया गया होता है।

यह रहें सावधान

5 साल से कम उम्र के बच्चे, 65 साल से ज्यादा उम्र के बुजुर्ग और गर्भवती महिलाएं। जिन लोगों को निम्न में से कोई बीमारी है, उन्हें अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए :

– फेफड़ों, किडनी या दिल की बीमारी

– मस्तिष्क संबंधी (न्यूरोलॉजिकल) बीमारी मसलन, पर्किंसन

– कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वाले लोग

– डायबीटीजं

– ऐसे लोग जिन्हें पिछले 3 साल में कभी भी अस्थमा की शिकायत रही हो या अभी भी हो। ऐसे लोगों को फ्लू के शुरुआती लक्षण दिखते ही डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

– गर्भवती महिलाओं का प्रतिरोधक तंत्र (इम्यून सिस्टम) शरीर में होने वाले हॉरमोन संबंधी बदलावों के कारण कमजोर होता है। खासतौर पर गर्भावस्था के तीसरे चरण यानी 27वें से 40वें सप्ताह के बीच उन्हें ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत है।

अकसर पूछे जाने वाले सवाल

अगर किसी को स्वाइन फ्लू है और मैं उसके संपर्क में आया हूं, तो क्या करूं?

सामान्य जिंदगी जीते रहें, जब तक फ्लू के लक्षण नजर नहीं आने लगते। अगर मरीज के संपर्क में आने के 7 दिनों के अंदर आपमें लक्षण दिखते हैं, तो डॉक्टर से सलाह करें।

अगर साथ में रहने वाले किसी शफ्स को स्वाइन फ्लू है, तो क्या मुझे ऑफिस जाना चाहिए?

हां, आप ऑफिस जा सकते हैं, मगर आपमें फ्लू का कोई लक्षण दिखता है, तो फौरन डॉक्टर को दिखाएं और मास्क का इस्तेमाल करें।

स्वाइन फ्लू होने के कितने दिनों बाद मैं ऑफिस या स्कूल जा सकता हूं?

अस्पताल वयस्कों को स्वाइन फ्लू के शुरुआती लक्षण दिखने पर सामान्यत: 5 दिनों तक ऑब्जर्वेशन में रखते हैं। बच्चों के मामले में 7 से 10 दिनों तक इंतजार करने को कहा जाता है। सामान्य परिस्थितियों में व्यक्ति को 7 से 10 दिन तक रेस्ट करना चाहिए, ताकि ठीक से रिकवरी हो सके। जब तक फ्लू के सारे लक्षण खत्म न हो जाएं, वर्कप्लेस से दूर रहना ही बेहतर है।

क्या किसी को दो बार स्वाइन फ्लू हो सकता है?

जब भी शरीर में किसी वायरस की वजह से कोई बीमारी होती है, शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र उस वायरस के खिलाफ एक प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर लेता है। जब तक स्वाइन फ्लू के वायरस में कोई ऐसा बदलाव नहीं आता, जो अभी तक नहीं देखा गया, किसी को दो बार स्वाइन फ्लू होने की आशंका नहीं रहती। लेकिन इस वक्त फैले वायरस का स्ट्रेन बदला हुआ है, जिसे हो सकता है शरीर का प्रतिरोधक तंत्र इसे न पहचानें। ऐसे में दोबारा बीमारी होने की आशंका हो सकती है।

स्वाइन फ्लू से बचाव और इसका इलाज

स्वाइन फ्लू हो, इसके लिए क्या करें?

– साफ-सफाई का ध्यान रखा जाए और फ्लू के शुरुआती लक्षण दिखते ही सावधानी बरती जाए, तो इस बीमारी के फैलने के चांस न के बराबर हो जाते हैं।

– जब भी खांसी या छींक आए रूमाल या टिश्यू पेपर यूज करें।

– इस्तेमाल किए मास्क या टिश्यू पेपर को ढक्कन वाले डस्टबिन में फेंकें।

– थोड़ी-थोड़ी देर में हाथ को साबुन और पानी से धोते रहें।

– लोगों से मिलने पर हाथ मिलाने, गले लगने या चूमने से बचें।

– फ्लू के शुरुआती लक्षण दिखते ही अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

– अगर फ्लू के लक्षण नजर आते हैं तो दूसरों से 1 मीटर की दूरी पर रहें।

– फ्लू के लक्षण दिखने पर घर पर रहें। ऑफिस, बाजार, स्कूल न जाएं।

– बिना धुले हाथों से आंख, नाक या मुंह छूने से परहेज करें।

आयुर्वेद- ऐसे करें बचाव

इनमें से एक समय में एक ही उपाय आजमाएं।

– 4-5 तुलसी के पत्ते, 5 ग्राम अदरक, चुटकी भर काली मिर्च पाउडर और इतनी ही हल्दी को एक कप पानी या चाय में उबालकर दिन में दो-तीन बार पिएं।

– गिलोय (अमृता) बेल की डंडी को पानी में उबाल या छानकर पिएं।

– गिलोय सत्व दो रत्ती यानी चौथाई ग्राम पौना गिलास पानी के साथ लें।

– 5-6 पत्ते तुलसी और काली मिर्च के 2-3 दाने पीसकर चाय में डालकर दिन में दो-तीन बार पिएं।

– आधा चम्मच हल्दी पौना गिलास दूध में उबालकर पिएं। आधा चम्मच हल्दी गरम पानी या शहद में मिलाकर भी लिया जा सकता है।

– आधा चम्मच आंवला पाउडर को आधा कप पानी में मिलाकर दिन में दो बार पिएं। इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

स्वाइन फ्लू होने पर क्या करें

यदि स्वाइन फ्लू हो ही जाए तो वैद्य की राय से इनमें से कोई एक उपाय करें:

– त्रिभुवन कीर्ति रस या गोदंती रस या संजीवनी वटी या भूमि आंवला लें। यह सभी एंटी-वायरल हैं।

– साधारण बुखार होने पर अग्निकुमार रस की दो गोली दिन में तीन बार खाने के बाद लें।

– बिल्वादि टैब्लेट दो गोली दिन में तीन बार खाने के बाद लें।

होम्योपैथी- कैसे करें बचाव

फ्लू के शुरुआती लक्षण दिखने पर इन्फ्लुएंजाइनम-200 की चार-पांच बूंदें, आधी कटोरी पानी में डालकर सुबह-शाम पांच दिन तक लें। इस दवा को बच्चों समेत सभी लोग ले सकते हैं। मगर डॉक्टरों का कहना है कि फ्लू ज्यादा बढ़ने पर यह दवा पर्याप्त कारगर नहीं रहती, इसलिए डॉक्टरों से सलाह कर लें। जिन लोगों को आमतौर पर जल्दी-जल्दी जुकाम खांसी ज्यादा होता है, अगर वे स्वाइन फ्लू से बचना चाहते हैं तो सल्फर 200 लें। इससे इम्यूनिटी बढ़ेगी और स्वाइन फ्लू नहीं होगा।

स्वाइन फ्लू होने पर क्या है इलाज

1: बीमारी के शुरुआती दौर के लिए

जब खांसी-जुकाम व हल्का बुखार महसूस हो रहा हो तब इनमें से कोई एक दवा डॉक्टर की सलाह से ले सकते हैं:

एकोनाइट (Aconite 30), बेलेडोना (Belladona 30), ब्रायोनिया (Bryonia 30), हर्परसल्फर (Hepursuphur 30), रसटॉक्स (Rhus Tox 30), चार-पांच बूंदें, दिन में तीन से चार बार।

2: अगर फ्लू के मरीज को उलटियां आ रही हों और डायरिया भी हो तो नक्स वोमिका (Nux Vomica 30), पल्सेटिला (Pulsatilla 30), इपिकॉक (Ipecac-30) की चार-पांच बूंदें, दिन में तीन से चार बार ले सकते हैं।

3: जब मरीज को सांस की तकलीफ ज्यादा हो और फ्लू के दूसरे लक्षण भी बढ़ रहे हों तो इसे फ्लू की एडवांस्ड स्टेज कहते हैं। इसके लिए आर्सेनिक एल्बम (Arsenic Album 30) की चार-पांच बूंदें, दिन में तीन-चार बार लें। यह दवा अस्पताल में भर्ती व ऐलोपैथिक दवा ले रहे मरीज को भी दे सकते हैं।

योग

शरीर के प्रतिरक्षा और श्वसन तंत्र को मजबूत रखने में योग मददगार साबित होता है। अगर यहां बताए गए आसन किए जाएं, तो फ्लू से पहले से ही बचाव करने में मदद मिलती है। स्वाइन फ्लू से बचाव के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले अभ्यास करें:

– कपालभाति, ताड़ासन, महावीरासन, उत्तानपादासन, पवनमुक्तासन, भुजंगासन, मंडूकासन, अनुलोम-विलोम और उज्जायी प्राणायाम तथा धीरे-धीरे भस्त्रिका प्राणायाम या दीर्घ श्वसन और ध्यान।

– व्याघ्रासन, यानासन व सुप्तवज्रासन। यह आसन लीवर को मजबूत करके शरीर में ताकत लाते हैं।

डाइट

– घर का ताजा बना खाना खाएं। पानी ज्यादा पिएं।

– ताजे फल, हरी सब्जियां खाएं।

– मौसमी, संतरा, आलूबुखारा, गोल्डन सेव, तरबूज और अनार अच्छे हैं।

– सभी तरह की दालें खाई जा सकती हैं।

– नींबू-पानी, सोडा व शर्बत, दूध, चाय, सभी फलों के जूस, मट्ठा व लस्सी भी ले सकते हैं।

– बासी खाना और काफी दिनों से फ्रिज में रखी चीजें न खाएं। बाहर के खाने से बचें।

मास्क की बात

न पहने मास्क

– मास्क पहनने की जरूरत सिर्फ उन्हें है, जिनमें फ्लू के लक्षण दिखाई दे रहे हों।

– फ्लू के मरीजों या संदिग्ध मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों को ही मास्क पहनने की सलाह दी जाती है।

– भीड़ भरी जगहों मसलन, सिनेमा हॉल या बाजार जाने से पहले सावधानी के लिए मास्क पहन सकते हैं।

– मरीजों की देखभाल करने वाले डॉक्टर, नर्स और हॉस्पिटल में काम करने वाला दूसरा स्टाफ।

– एयरकंडीशंड ट्रेनों या बसों में सफर करने वाले लोगों को ऐहतियातन मास्क पहन लेना चाहिए।

कितनी देर करता है काम

– स्वाइन फ्लू से बचाव के लिए सामान्य मास्क कारगर नहीं होता, लेकिन थ्री लेयर सर्जिकल मास्क को चार घंटे तक और एन-95 मास्क को आठ घंटे तक लगाकर रख सकते हैं।

– ट्रिपल लेयर सजिर्कल मास्क लगाने से वायरस से 70 से 80 पर्सेंट तक बचाव रहता है और एन-95 से 95 पर्सेंट तक बचाव संभव है।

– वायरस से बचाव में मास्क तभी कारगर होगा जब उसे सही ढंग से पहना जाए। जब भी मास्क पहनें, तब ऐसे बांधें कि मुंह और नाक पूरी तरह से ढक जाएं क्योंकि वायरस साइड से भी अटैक कर सकते हैं।

– एक मास्क चार से छह घंटे से ज्यादा देर तक न इस्तेमाल करें, क्योंकि खुद की सांस से भी मास्क खराब हो जाता है।

कैसा पहनें

– सिर्फ ट्रिपल लेयर और एन 95 मास्क ही वायरस से बचाव में कारगर हैं।

– सिंगल लेयर मास्क की 20 परतें लगाकर भी बचाव नहीं हो सकता।

– मास्क न मिले तो मलमल के साफ कपड़े की चार तहें बनाकर उसे नाक और मुंह पर बांधें। सस्ता व सुलभ साधन है। इसे धोकर दोबारा भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

ध्यान रखें कि

– जब तक आपके आस-पास कोई मरीज या संदिग्ध मरीज नहीं है, तब तक मास्क न लगाएं।

– अगर मास्क को सही तरीके से नष्ट न किया जाए या उसका इस्तेमाल एक से ज्यादा बार किया जाए तो स्वाइन फ्लू फैलने का खतरा और ज्यादा होता है।

– खांसी या जुकाम होने पर मास्क जरूर पहनें।

– मास्क को बहुत ज्यादा टाइट पहनने से यह थूक के कारण गीला हो सकता है।

– अगर यात्रा के दौरान लोग मास्क पहनना चाहें तो यह सुनिश्चित कर लें कि मास्क एकदम सूखा हो। अपने मास्क को बैग में रखें और अधिकतम चार बार यूज करने के बाद इसे बदल दें।

कीमत
– थ्री लेयर सजिर्कल मास्क : 10 से 12 रुपये

– एन-95 : 100 से 150 रुपये

 

 

टीवी पर दिखाई गई एनाकोंडा का निवाला बने पॉल की कहानी


2972_anaconda-1

2974_anaconda-2 5670_untitled-1 5672_untitled-3

 

                                                                                              (फोटोः एनाकोंडा के साथ पॉल)
न्यूयॉर्क. एनाकोंडा का निवाला बने पर्यावरणविद् पॉल रोसोली की रोमांचक कहानी रविवार को दुनिया ने देखी। अमेरिका में डिस्‍कवरी चैनल पर यह वीडियो दिखाया गया।
क्‍यों किया ऐसा 
जंगलों को बचाने के लिए लोगों को जागरूक करने के मकसद से कुछ समय पहले पॉल ने एक स्‍टंट किया था। उन्‍हें पूरा विश्‍वास था कि उनका यह प्रयोग दुनिया दांतों तले उंगली दबा कर देखेगी। इसलिए उन्‍होंने पूरी घटना की वीडियो रिकॉर्डिंग करवाई। उन्‍होंने खुद को एनाकोंडा (सांपों की सबसे बड़ी प्रजाति) के हवाले कर दिया।
कैसे किया ऐसा 
पॉल को एनाकोंडा ने निगल लिया। वह करीब एक घंटा एनाकोंडा के पेट के अंदर रहे। उसने उनके गले पर दबाव बनाया। पॉल ने गले पर एनाकोंडा के वार से पड़ने वाले दबाव से बचने के लिए खास तौर पर तैयार किया गया कार्बन फाइबर का सूट पहन रखा था। इस सूट में एक ऐसा सिस्‍टम लगा था, जिसके जरिए वे एनाकोंडा के पेट के अंदर भी सांस ले सकते थे। साथ ही, कैमरा और कम्‍युनिकेशन सिस्‍टम भी लगा था। पॉल ने कहा, “मुझे नहीं मालूम था कि मेरा प्रयोग सफल रहेगा या नहीं। मैं एनाकोंडा से बच पाऊंगा या नहीं। पर मैंने इतना जरूर सुनिश्चित कर लिया था कि अगर मैं एनाकोंडा के पेट में चला गया तो अपने गले पर किसी तरह दबाव नहीं पड़ने दूंगा।”
बड़ी चुनौती 
पॉल ने बताया कि एनाकोंडा की तलाश भी बड़ी चुनौती थी। इसके लिए वह दो महीने रातों में जंगलों में भटकते रहे। अंतत: उन्‍हें छह मीटर ( 20 फीट) लंबा एक मादा सांप मिला।
पॉल के मुताबिक, जब वह एनाकोंडा के पास गए तो उसने सीधा हमला नहीं बोला। उल्‍टे उसने बचने की कोशिश की। लेकिन उकसाने पर वह पलटा और अपना बचाव करने के लिए सक्रिय हुआ। उसने पॉल को अपने अंदर ले लिया। वह करीब एक घंटा अंदर रहे। इस दौरान वह अपनी टीम से संपर्क में बने रहे। उन्‍होंने बताया कि उन्‍हें डर तो लग रहा था, लेकिन काफी रोमांच का भी अहसास हो रहा था।
कैसे बचे, नहीं बताया
रोसेली ने यह नहीं बताया कि वह सांप से कैसे बचे, लेकिन उन्होंने अपनी टीम को कह रखा था कि सांप को कोई नुकसान नहीं पहुंचना चाहिए और वे ही एकमात्र होंगे, जिन पर खतरा होगा। रोसेली ने कहा, “हमने सांप को कुछ भी करने के लिए नहीं उकसाया।”
अमेजन को बचाने फंड का इस्तेमाल
बता दें कि इस शो के लिए उपलब्ध फंड अमेजन के जंगल के प्रति लोगों को जागरूक करने और उसे बचाने में खर्च किया जाना है। साथ ही, इससे एनाकोंडा पर रिसर्च भी किया जाना है।
रोसेली की निंदा भी-
हालांकि, स्टंट के बाद रोसेली की निंदा भी हो रही है। पेटा सहित जानवरों के अधिकारों के लिए काम करने वाले कई संगठनों ने कहा है कि सांप के साथ बुरा बर्ताव किया गया और महज रेटिंग के लिए उसे यूज़ किया गया। इधर, रोसेली ने धमकियां मिलने की बात भी कही है। उन्होंने कहा कि लोगों का ध्यान आकर्षित करने के लिए यह चौंकाने वाला तरीका अपनाना जरूरी था।
10 दिसंबर के बाद भारत में टेलीकास्ट-
अमेरिका में ‘इटन अलाइव’ शो दिखाए जाने के बाद अब इसे 10 दिसंबर को फिनलैंड, डेनमार्क, हंगरी, पोलैंड और स्वीडन में दिखाया जाएगा। इसके दो दिन बाद ऑस्ट्रेलिया में टेलीकास्ट होगा। इसके बाद ही भारत और चीन जैसे अन्य देशों में टेलीकास्ट किया जाएगा।

 

 

» बीजेपी के स्वच्छता अभियान की 10 मज़ेदार फोटो


महात्मा गांधी की जयंती को ‘स्वच्छता अभियान’ में बदलकर बीजेपी ने देश में सफाई क्रान्ति का सन्देश देने की कोशिश की। लेकिन 1 महीने बाद यह सारे देश में एक ड्रामा मात्र रह गया है। पहले कूड़े बिखेरे जा रहे हैं, फिर उन्हें साफ़ करती हुई सेल्फ़ी खींची जा रही है। आईये देखें इस देशव्यापी नाटक की 10 मज़ेदार फोटो।

1. उनकी 25 पत्तियाँ और तुम्हारे 6 झाड़ू, बहुत नाईंसाफी है!

पत्तियों को बिखेरने से पहले मोदीजी उन्हें निहारते हुए

पत्तियों को बिखेरने से पहले मोदीजी उन्हें निहारते हुए

1. उनकी 25 पत्तियाँ और तुम्हारे 6 झाड़ू, बहुत नाईंसाफी है

…और फिर उन 6 दरिंदे झाड़ूओं ने इन 25 मासूम पत्तियों पर धावा बोल दिया।

 2. मुझे झाड़ू लगाने के लिए सुरक्षा चाहिए

मुझे झाड़ू लगाने के लिए सुरक्षा चाहिए ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी कूड़े की प्रत्याशित दुर्गन्ध से असुरक्षित महसूस कर रही थीं, इसलिए उन्होंने सुरक्षा के पुख्ता इंतज़ाम कर लिए। सौभाग्य से उनके रास्ते में कोई कूड़ा नहीं आया।

 3. नयी झाड़ू और रंग-बिरंगा कूड़ा, फोटो अच्छी आएँगी

बीजेपी के संभावित मुख्यमंत्री उम्मीदवार सतीश उपाध्याय ने सफाई से पहले बाकायदा कूड़ा मंगवाया और कूड़े को खूबसूरती से फैलाया गया। उपाध्याय जी की मांग थी कूड़ा रंग-बिरंगा होना चाहिए। बीजेपी के संभावित मुख्यमंत्री उम्मीदवार सतीश उपाध्याय ने सफाई से पहले बाकायदा कूड़ा मंगवाया और कूड़े को नए झाड़ू से खूबसूरती के साथ फैलाया। उपाध्याय जी की मांग थी कूड़ा रंग-बिरंगा होना चाहिए।

4. फेसबुक के लिए एक फोटो हो जाय

इस अभियान के दौरान नागरिकों का उत्साह देखते ही बना। सबसे प्रोफेशनल फोटोग्राफर्स से फोटो सेशन कराये और सोशल मीडिया पर पोस्ट किये। फेसबुक   पर लाइक्स और कमेंट्स की ऐसी बाढ़ आ गयी कि इसे राष्ट्रीय आपदा घोषित करना पड़ा

इस अभियान के दौरान नागरिकों का उत्साह देखते ही बना।  सबने प्रोफेशनल फोटोग्राफर्स से फोटो सेशन कराये और सोशल मीडिया पर पोस्ट किये। फेसबुक पर लाइक्स और कमेंट्स की ऐसी बाढ़ आ गयी कि इसे राष्ट्रीय आपदा घोषित करना पड़ा।

 5. कूड़े, तुम हो कहाँ? ढूंढता फिर रहा

देश में कूड़े की यकायक इतनी मांग बढ़ गयी कि इसका अकाल पड़ गया। बीजेपी नेता प्रकाश जावड़ेकर को इसके बिना ही सफाई करनी पड़ी।देश में कूड़े की यकायक इतनी मांग बढ़ गयी कि इसका अकाल पड़ गया। बीजेपी नेता प्रकाश जावड़ेकर को इसके बिना ही सफाई करनी पड़ी।

 6. गली में आज ‘चाँद’ निकला

आम तौर पर चमचमाते बीजेपी ऑफिस के बाहर नए मेहमान कूड़ा-गाड़ियों में भर-भर आये। स्वागत में उन्हें इक्कीस झाड़ूओं की सलामी दी गयी।

आम तौर पर चमचमाते बीजेपी ऑफिस के बाहर नए मेहमान कूड़ा-गाड़ियों पालकी में भर-भर आये। स्वागत में उन्हें इक्कीस झाड़ूओं तोपों की सलामी दी गयी।

7. बहारों ‘बोतलें’ बिछाओ, मेरा महबूब आया है!

पानी की खाली बोतलों को भी नहीं छोड़ा गया। बीजेपी नेता ने लाल किले के बाहर सफाई का आह्वान क्या किया, उनके स्वागत में सड़कें बोतलों से पाट दी गयीं। बाद में इन्हें इनके मुकाम पहुंचाया गया।पानी की खाली बोतलों को भी नहीं छोड़ा गया। बीजेपी नेता ने लाल किले के बाहर सफाई का आह्वान क्या किया, उनके स्वागत में सड़कें बोतलों से पाट दी गयीं। बाद में इन्हें इनके मुकाम तक पहुंचाया गया।

 8. मैं हूँ फूल-परी

येल यूनिवर्सिटी से 'हाइजीन टेक्नोलॉजीज' में स्नातक बीजेपी नेता स्मृति ईरानी अपने साथ हैंड-सैनीटाईज़र लाना नहीं भूलीं।

येल यूनिवर्सिटी से ‘हाइजीन टेक्नोलॉजीज’ में स्नातक बीजेपी नेता स्मृति ईरानी अपने साथ हैंड-सैनीटाईज़र लाना नहीं भूलीं।

9. ऐसे पकड़ते हैं झाडू!

पहने मैं झाड़ू पकड़ना सीखूंगी, फिर सफाई करूंगी। "आ जाओ शहर के बीच, मीडिया वालों फोटो मेरी खींच!"

पहने मैं झाड़ू पकड़ना सीखूंगी, फिर सफाई करूंगी।

“आ जाओ शहर के बीच……यारा फोटो मेरी खींच!”
“फूटी किस्मत होगी तेरी, गर तूने ये बात ना मानी”
“ओहो, ओहो…ओहो, ओहो, ओहो!”

 10. डर्टी पिक्चर-2

क्लीन इंडिया की इस अपार सफलता के बाद देश में मशहूर निर्देशक राम गोपाल वर्मा ने डर्टी पिक्चर-2 बनाने का ऐलान किया। यहाँ देखें इसकी लीक्ड प्रमोशनल पोस्टर (साभार : नीलभ)

क्लीन इंडिया की इस अपार सफलता के बाद देश के मशहूर निर्देशक राम गोपाल वर्मा ने डर्टी पिक्चर-2 बनाने का ऐलान किया। यहाँ देखें इसकी लीक्ड प्रमोशनल पोस्टर (साभार : नीलभ)